काठ और काठी

पक रही है पानी में
शहतीर
आग पर रोटी
रोग में तन
और आत्मा विछोह में …

कीचड़ और पानी में
पक रहा है काठ
सिंहल समुद्र के जल
और वैसवाड़े के पसीने
से बना
शीशम का यह तना
गोह साँप गिरगिट
की रेंगन से रोमांचित…
तितलियों-सी
पत्तियों से भरा यह शीशम
घर था अनश्वरता का
कोटरों में घोसले
आँधियों को परास्त करते हुए …

उन्हीं कोटरों में रहते हैं अब
कछुए मुस्कान जैसे मुँह वाले
वहीं से बुलाती है सबको
अनश्वरता

कीचड़-पानी में
पक रहा है शहतीर
काठ लोहा हो रहा है
और काठी भी ….

Leave a Reply