मुझसे जीया नहीं जाता – शिशिर मधुकर

तेरे बिन इस ज़माने में मुझसे जीया नहीं जाता
ज़हर का घूंट तन्हाई का भी ये पीया नहीं जाता
लाख चाहा मगर ये घाव दिल के रिसते जाते हैं
किसी भी तार से इनको तो अब सीया नहीं जाता

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. Vikram jajbaati Vikram jajbaati 22/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/09/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 24/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/09/2018

Leave a Reply