हिन्दी दिवस- Bhawana Kumari

हर साल की तरह लो
फिर आ गया हिंदी दिवस
जब जब यह दिवस आता है
मेरे मन मे एक ही प्रश्न आता है
हर साल की तरह इस साल भी
हम सब हिंदी दिवस मनायेगे
इस दिन हम सब बहुत सारी
संकल्प फिर से दोहराएंगे
और कल फिर उसे भूल जाएगे
हर दिन की तरह इस दिन भी
फॉटटिन सेप्टेंबर ही लिखी जाएगी
और हिंदी पहले की तरह ही
फिर से तिरस्कृत हो जाएगी

भावना कुमारी