ll ओरिएण्टल हमारी सबसे न्यारी ll

॥ ओरिएंटल हमारी सबसे न्यारी ॥

ओरिएंटल हमारी सबसे न्यारी, समेटे गौरवमय इतिहास ।
समाज को देती सदा सुरक्षा, देती भविष्य को नूतन आस ॥ 1 ॥
आजादी के साथ ही, हमने रचा एक नया इतिहास ।
आपदकाल में दिया सहारा, भविष्य को दी इक नूतन आस ॥ 2 ॥
ओ एफ जी का ध्वज लेकर, यात्रा हमने की प्रारम्भ ।
कालांतर मे बने ओआईसीएन, t यात्रा है आरम्भ ॥ 3 ॥
हम हैं ओआईसीएन, हर आपदा से सुरक्षा हमारे पास ।
समाज निर्भय होकर रहे, इसका हम देते विश्वास ॥ 4 ॥
अग्नि हो या हों जलयान, या हों वाहन या वायुयान ।
हमारे दम से हैं सब सुरक्षित, सब करते हम पर अभिमान ॥ 5 ॥
केवल आश्वासन ही ना देते, रहते समाज के साथ खड़े ।
प्राकृतिक आपदाओं में देते मदद, विपत्तियों के समक्ष रहते अड़े ॥ 6 ॥
हमारी छतरी की छांव में, समाज हमारा रहे सुरक्षित ।
अनवरत यही प्रयास हमारा, जन-जन हों सब भाँति रक्षित ॥ 7 ॥
अमीर हों या हों गरीब, या हों निर्मम लाचार ।
हम देते सबको सुरक्षा, उठाए सिर पे सबका भार ॥ 8 ॥
ओरिएंटल हमारी अतिप्रिय हमको, करते इससे प्रेम अपार ।
हमारा जीवन इसे समर्पित, दें हम इसे नया आधार ॥ 9 ॥
ईमान कर्तव्य इसे समर्पित, ओरिएंटल को दें इक नया रूप ।
भविष्य की हो यह नई प्रेरणा, जन-जन के यह हो अनुरूप ॥ 10 ॥
बरस इकहत्तर हुए पूर्ण, हीरक स्थापना दिवस की ओर अग्रसर ।
हम हैं इस बगिया के पौधे, दें इसे नव उत्थान का अवसर ॥ 11 ॥
ओरिएंटल हमारी सबसे न्यारी, इससे हम पाते सम्मान ।
कर्तव्य हमारा होकर समर्पित, और बढाएं इसका मान ॥ 12 ॥

2 Comments

  1. अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव अखिलेश प्रकाश श्रीवास्तव 13/09/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 15/09/2018

Leave a Reply