जब तू मुस्काती है – अनु महेश्वरी

दीवारें खिल उठती जब तू मुस्कुराती है,
जीने की फिर से एक उम्मीद जगाती है।

उताड़ चढ़ाव भरे जीवन के हर मोड़ पे,
तेरे हँसने से मेरी ज़िन्दगी भी हर्षाती है।

परेशान लम्हों में तेरा साथ जब मिलता,
आभा तेरे चेहरे की फिर खुशियाँ लाती है।

संघर्ष करने की तेरी ये इच्छाशक्ति देख,
जीवन में हमारे भी आस जग जाती है।

हरपल गूँजती तेरी मुस्कुराती आवाज़ से,
लगता है जैसे फिज़ा भी यहाँ गीत गाती है।

अनु महेश्वरी

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2018
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/09/2018
      • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/09/2018
        • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2018
          • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/09/2018
  2. mukta mukta 10/09/2018
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 11/09/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/09/2018
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/09/2018
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 13/09/2018
  5. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 15/09/2018
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/09/2018
  6. Rinki Raut Rinki Raut 18/09/2018

Leave a Reply