नारी -शिशिर मधुकर

नारी नारी सब करें पर दिखता ना नया विचार
बाप के कंधों पे पैदा होते ही बढ़ जाता है भार
बढ़ जाता है भार देखो तुम सामाजिक चतुराई
बिन दहेज के आज तलक क्या शादी हो पाई

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 16/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/09/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 17/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/09/2018

Leave a Reply