हीर हो तुम – शिशिर मधुकर

डर तुम्हारे फिर से चलो अब सभी दूर हो गए
नज़दीक आने को तुम भी लो मज़बूर हो गए

मुझे पहचानते हो बस यही तुमने बताया था
एक बार फिर एक दूजे का हम गुरूर हो गए

गुमनामी सी छा गई थी तेरा साथ जब छुटा
आ गए हो तुम लो फिर हम मशहूर हो गए

घाव जो मिले थे सनम मुहब्बत में मुझे तेरी
उनमें से से कई तो तू देख ले नासूर हो गए

हीर हो तुम मधुकर जिसे खुद की नहीं परख
कितने तुम्हें अपना समझ यहाँ मगरूर हो गए

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/09/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/09/2018
  3. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/09/2018

Leave a Reply