कोई पूछे खुदा से आज – शिशिर मधुकर

तुमने मुझ को सताया है चलो आपस में अब बोलें
छुपे हैं दिल के भीतर जो राज़ जल्दी से सब खोलें

ज़माने ने करीं साजिश तन्हा हो कर रहें हम तुम
दूर रहने के पापों को चलो असुअन से हम धो लें

मुहब्बत तो शहादत माँगती है चाहे कहीं हो आप
अपने अधिकार से इसको कृपा कर के नहीं तोलें

गुलों को बख्शी क्यों खुशबू कोई पूछे खुदा से आज
भ्रमर भी क्या करें दीवाने हुए जो इन पे नहीं डोलें

जवानी ढलती जाती है रूप मुरझाने सा लगता है
कोई उनसे कह दो मधुकर वो हरदम साथ में हो लें

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2018
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2018
  3. mukta mukta 10/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2018
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/09/2018
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 12/09/2018
  6. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 15/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/09/2018

Leave a Reply