अग्नि

सब कुछ था
बस अग्नि नहीं थी

राजा की रसोई में
जावत् सामग्री थी
लगे थे वहाँ अन्न फल
मसालों के भूधराकार ढेर

घेर-घेर सागर से घसीट कर
लाये गये पीन पाठीन मीन
घी दूब सोम और मधु के
लबालब भरे कुण्ड

जुटे देश-देश के
रसोइये चतुर-सुजान
किन्तु सभी हैरान
अग्नि कहाँ चली गई?

यज्ञ का प्रस्तुत था
सारा सामान
बलिवेदी बलिपशु मंडप
हवनकुण्ड ऋचायें सामगान

सारे पुरोहित यजमान
आशंकित आतंकित
बेचैन परेशान
अग्नि कहाँ चली गई?

राजा ने हुक्म दिया
दौड़े आये गुणीजन
अग्नि की खोज में
लगाये गये गुणीजन

गुणियों ने आते ही
पटक दिये पर्वत पर पर्वत
पर चिंगारी के बदले
उड़े सिर्फ दो छींटे खून के–
अग्नि नहीं थी वहाँ

ज्वालामुखियों में तब
कूद पड़े अन्वेषक
बजबजा रहा था वहाँ
कुंभीपाक तमस् का–
अग्नि नहीं थी वहाँ

गुणीजन उड़े
और गये सूर्यलोक तक
सिर्फ चौंधियाती हुई
बर्फ की मरीचिका थी सूर्य में–
अग्नि नहीं थी वहाँ

राजा और सेना के
प्रचण्ड क्रोध में भी
घुसे अनवेषक
वहाँ सिर्फ डरी हुई
हिंसक कायरता थी–
अग्नि नहीं थी वहाँ

राजा दरबारी
सब परेशान हैरान
हतप्रभ थे गुणीजन
निष्फल था सारा विज्ञान
उनको
जरा भी नहीं था अनुमान
शताब्दियों से उन्हीं के आसपास
भूख बन कर
दहक रही थी अग्नि
लाखों उदर कन्दराओं में

राजा और दरबारियों के
बन्द थे कान
गरजती चली आ रही थी
उन्हीं को घेरती
दसों दिशाओं से

सचमुच चली आ रही थी अब
पतित पावन अग्नि।

Leave a Reply