मेरे अल्फाज़ – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

पत्थर को पुजते – पुजते लोग क्यों पत्थर बन गये
एक – दूसरे को नहीं समझते इतने बत्तर बन गये।
कहाँ गयी वो शर्म – हया जो अपने दिल में रहते थे
इंसानियत मर गयी खाकी – खादी खद्दर बन गये।

 

रहम की भीख भी अब मुकर्रर नहीं होता जमाने में
लोग कब से पीछे पड़े हैं सिर्फ पैसा कमाने में।
कर्म – धर्म और मर्म सब के सब रख दिए ताक पर
कोई भी रहनुमा अब नहीं मिलता यहाँ जमाने में।

 

बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु
बाढ़ – पटना
9661065930

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/09/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/09/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
  4. mukta mukta 10/09/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 11/09/2018
    • Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 12/09/2018

Leave a Reply