सच्ची खुशी

भूल जा तू शूल, अपनी खुशी को उठा।

जरा धूम से तू झूम, इसको गले से लगा।

इन पलों को बना अटल, जो ना मिलेंगे कल।

गैरों के बेगाने पन को तू भूल जा ।

।।मुक्ता शर्मा ।।

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/09/2018
  2. mukta mukta 10/09/2018

Leave a Reply