डोर ये स्नेह की – शिशिर मधुकर

कभी तुम भूल जाते हो कभी पहलू में आते हो
आखिर कौन से रिश्ते को तुम मुझसे निभाते हो

कभी तुमको नहीं परवाह मुझे सन्देश देते हो
कभी मैं प्यार तेरा हूँ यही खुलकर जताते हो

कभी ऐंठें से रहते हो जैसे कुछ भी नहीं मेरे
कभी बातों से मीठी तुम मुझे अपनी लुभाते हो

अरे गर दूरियां हीं अब तुम्हें मुझसे बनानी हैं
बांध कर डोर ये स्नेह की क्यों मुझको सताते हो

बड़ी मुश्किल से उल्फ़त की दिलों में आग बुझती है
इसे तुम मुस्कुरा मधुकर के दिल में क्यों जलाते हो

शिशिर मधुकर

9 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018
  3. Harish Chamoli 06/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018
  4. Harish Chamoli 06/09/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 06/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018

Leave a Reply