आईने दिल के- शिशिर मधुकर

मुहब्बत जो भी करते हैं कभी रूठा नहीं करते
फ़कत चेहरा घुमाने से ये संग छूटा नहीं करते

जिसे अपना बना के प्यार में हर चीज़ दे डाली
हवस अपनी मिटाने को उसे लूटा नहीं करते

अक्सर सफ़र में रिश्तों की माला टूट जाती है
बिखरे मोती ये फिर भी मगर फूटा नहीं करते

छवि बेशक समय के साथ में धुंधली पड़ जाए
आइने दिल के जीवन में कभी टूटा नहीं करते

कोई मजबूरी तो निश्चित रही होगी वहाँ उसकी
एक दूजे को वो मधुकर वरना झूठा नहीं करते

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 06/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018
  3. Mohit Shukla 21/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/09/2018

Leave a Reply