दिल में ज़रा झांको – शिशिर मधुकर

बड़ा अफ़सोस है तुमने मुझे एकदम भुलाया है
मुझको इस प्रेम ने अक्सर ज़माने में रूलाया है

हर दफा चोट मिलती है और पीड़ा को झेला है
मैंने तो प्रेम झूलों में किसी को जब झुलाया है

अपने दिल में ज़रा झांको और खुद से प्रश्न पूछो
मैं हरदम पास आया हूँ तुमने जब भी बुलाया है

ज़माने ने करी कोशिश तुम्हें कोई चैन ना आए
मगर मैंने तो फूलों पे तुम्हें हर पल सुलाया है

वक्त बदला है अब जो भी चाहो तुम यहाँ कह लो
तेरी बातों पे मधुकर ने मगर मुँह ना फुलाया है

शिशिर मधुकर

3 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 10/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/09/2018
      • C.M. Sharma C.M. Sharma 11/09/2018

Leave a Reply