तड़पती हूँ मगर – शिशिर मधुकर

सुनो नाराज़ ना होना मैं तुमको याद करती हूँ
नज़र से दूर लोगों की सदा आहें सी भरती हूँ

बड़ा बैरी ज़माना है कहीं रुसवाई ना कर दे
तड़पती हूँ मगर सच यही कहने से डरती हूँ

भले तुम दूर रहते हो और मिलते नहीं मुझसे
छवि वो तेरी प्यारी सी सदा सीने में धरती हूँ

गर मुझसे मिलन को टूटते हो तुम अकेले आज
तन्हा गलियों से देख तेरे बिन मैं भी गुजरती हूँ

ये तेरे प्रेम का ही तो असर बाकी है मुझपे आज
देख के आईने में खुद को मैं मधुकर संवरती हूँ

शिशिर मधुकर

14 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 04/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  2. davendra87 davendra87 04/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  3. Saviakna Saviakna 04/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/09/2018
  6. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/09/2018
  7. Inder Bhole Nath Inder Bhole Nath 25/09/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/09/2018

Leave a Reply