असली गहना – शिशिर मधुकर

ना ही अब कोई भाई है ना ही अब कोई बहना है
फिर भी ना जाने क्यों ये रक्षा बंधन पर्व सहना है
प्रेम रिश्तों के बीच अब तो कभी ढूंढे नहीं मिलता
रखा है क्या इन धागों में वही तो असली गहना है

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/08/2018
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 27/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/08/2018

Leave a Reply