बहना-ओ-बहना –

बहना -ओ – बहना

***

बहना -ओ – बहना, तेरे भाई का है कहना !
गुस्सा हमसे होना नहीं, खुश सदा ही रहना !!

तेरे इस प्रेम के धागे से
मुझे ताकत मिलती है
देख के तेरी हँसती सूरत
मन को ख़ुशी मिलती है
सुख-दुःख की हर घडी में
हमे साथ मिलकर रहना !

बहना -ओ – बहना, तेरे भाई का है कहना !
गुस्सा हमसे होना नहीं, खुश सदा ही रहना !!

रक्षा बंधन का त्यौहार
बड़ा मतवाला है
ये भाई बहन का प्यार
सारे जग से निराला है
आये कभी जो कोई विपदा
मुझे भूल न जाना बहना !!

बहना -ओ – बहना, तेरे भाई का है कहना !
गुस्सा हमसे होना नहीं, खुश सदा ही रहना !!

रेशम की ये डोर नहीं
धागा प्रेम कहलायें
हर बहना अपने भाई की
कलाई इसे पहनायें
जल्दी से अब तुम भी पहना दो
मुझको पड़े न फिर से कहना !!

बहना -ओ – बहना, तेरे भाई का है कहना !
गुस्सा हमसे होना नहीं, खुश सदा ही रहना !!

!
!
डी के निवातिया

8 Comments

    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/09/2018
  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 27/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/09/2018
  2. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 27/08/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/09/2018
  3. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 04/09/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/09/2018

Leave a Reply