उनकी याद जाती नहीं

दिलो में कैद है जो एक अरसे से
वो याद उनकी जाती नहीं
ये नशा उनका ही तो था
बोतल का नशा भी कोई चीज है भला
हलक से उनका नशा उतार पाता हीं नहीं
ना जाने कितनी दफा फाड़े
उनके भेजे ख़त
ना जाने कितनी बार जलाई
उनकी हर एक तस्वीर
पर इस सावन को क्या कहूँ
ये आ जाता है दबे पाँव
और उनकी यादो की बारिश में
भींगा भी जाता हैं
और तडपा भी जाता हैं
पता नहीं क्या जादू कर गयी हो
जब भी देखता हूँ खुद को आइने में
उनकी अक्श दीख जाती वहीँ
उनकी याद जाती ही नहीं—-अभिषेक राजहंस

3 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 25/08/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/08/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/08/2018

Leave a Reply