असली पिया – शिशिर मधुकर

मैंने कितनों को परखा है साथ तुमने दिया है बस
कई अपने परायों ने मुझको रुसवा किया है बस

जो मन की बात को समझे और सुख दुख मेरे बांटे
जवानी का वो ही साथी मेरा असली पिया है बस

मुहब्बत का हसीं रिश्ता कितना अनमोल होता है
प्यार मैंने दिया तुमको वो ही वापस लिया है बस

तुम्हें समझा नहीं कोई उलाहने लोगों ने दे डाले
तेरी हर बात को समझे वो तो मेरा जिया है बस

तुझे पाने का सपना ही मुझे अब तक जिलाए है
लिपट के तेरी यादों से मधुकर धड़के हिया है बस

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 28/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/08/2018
      • C.M. Sharma C.M. Sharma 31/08/2018
  2. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/08/2018
      • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 28/08/2018

Leave a Reply