दिल की बातें – शिशिर मधुकर

बहुत सारी दिल की बातें मुझे अब तुमसे करनी हैं
हल्का मन कर सभी खुशियोंअपनी झोली में भरनी हैं

क्या तकते हो मेरी सूरत अभी तो दूर हैं हम तुम
आओगे तुम जो मेरे पास ये सब तस्वीरें संवरनी हैं

सब्र का फल घना मीठा एक दिन मिल ही जाएगा
जाने कितनी तन्हा रातें तब तलक यूँ हीं गुजरनी हैं

एक दिन में ज़माना तो कभी बदला नहीं करता
जाने कितनी बुरी बातें अभी तो यहाँ सुधारनी हैं

ये पानी बाढ़ का कुछ और दिन हमको सताएगा
उफ़नीं नदियाँ सभी मधुकर अब तो नीचे उतरनी हैं

शिशिर मधुकर

6 Comments

    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/08/2018
  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 28/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/08/2018
  2. ANU MAHESHWARI Anu Maheshwari 28/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/08/2018

Leave a Reply