अपनी पीर सुना जाएं – शिशिर मधुकर

ए वक्त करम कर दे अपना वो बाहों में फिर आ जाएं
एक प्रेम भरी बदली बन के तन्हा जीवन में छा जाएं

वो दूर हुए संगीत मेरे जीवन से कितना दूर हुआ
वो नेह गीत अपनी वाणी में आकर फिर से गा जाएं

दीवार खड़ी है बीच में जो तन्हा मुझसे ना हटती है
वो हाथ लगा दें अपना और साथ में इसको ढा जाएं

पुल सागर पे बनना है कुछ और तो सम्मुख काम नहीं
सागर से विनती है अब वो खुद इसकी राह बता जाएं

मधुकर कितनी मन की बातें मन ही मन में ठहरी हैं
सन्देश कोई भेजो उनको वो अपनी पीर सुना जाएं

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. अंजली यादव Anjali yadav 20/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/08/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 20/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/08/2018
  3. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 22/08/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/08/2018

Leave a Reply