धूरि चढ़ै नभ पौन प्रसँग तें कीच भई जल संगति पाई

धूरि चढ़ै नभ पौन प्रसँग तें कीच भई जल संगति पाई ।
फूल मिलैँ नृप पै पहुँचैं कृमि काठन सँग अनेक बिथाई ।
चँदन सँग कुठार सुगंध ह्वै नीच प्रसंग लहै करुआई ।
दासजू देखौ सही सब ठौरन संगति को गुन दोष न जाई ।

Leave a Reply