दोहे – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा – बिन्दु

देखो मेघा घिर गया, ये बादल के साथ
बूंद – बूंद अब झर रहा, मौशम का सौगात।

गाँव – शहर सब भर गये, नदियाँ करे उफान
त्राहि – त्राहि अब मच रही, हुए देख हैरान।

किसान ऐसे मर रहा, कब सूखा कब बाढ़
नहीं पता अब चल रहा, कब सावन आषाढ़।

मौशम के अब मार से, रह जाते सब दंग
गरीब बेचारा क्या करे, आफत रहती संग।

बादल भी आकाश में, उमड़ – घुमड़ इतराय
सूढ समंदर में करे, भर – भर पानी लाय।

3 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 09/08/2018
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 10/08/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/08/2018

Leave a Reply