सवाल सुनहरे पलों को

आज निकले यूं पुरानी राहों की ओर,

वही हरियाली थी चारों ओर,

न वो हवा बदली,न वो घटा बदली,

वही था सकूल के बच्चो का शोर।।

                      बदले थे तो सिर्फ सवाल स्कूल के,

                      पूछा हमसे कैसे है इम्तहान जिंदगी के,

                      यहाँ डरते थे छोटी छोटी परीक्षाओं से,

                      क्यो आज हर कदम पर है ढेर इम्तहानों के ।।

यहाँ सुलझे सुलझे से रहते थे,

दोस्तों के बीच  मस्त थे,

न वक्त की फिक्र थी,

और उलझनों से बेफिक्र थे ।।

                             अब वक्त से लड़ते रहते हो,

                             मतलब जिंदगी के तलाशते हो,

                             रिश्ते उलझनों से रखते हो,

                             और खुद को खुद में तलाशते हो।।

यहाँ थे, हँसी थी ,

खिलखिलाती सी जिंदगी थी ,

क्यों अब मायूस से रहते हो,

मुसकुराने से भी डरते हो।।

                           बिना जबाब दिये कदम बढ़े जा रहे थे ,

                           और हम स्कूल को ओझल नजरों से 

                            देखें जा रहे थे ।।

                                 बस देखें जा रहे थे ………….

                                                         अंजली 

                                                       

 

 

 

9 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 01/08/2018
    • अंजली यादव Anjali yadav 02/08/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/08/2018
    • अंजली यादव Anjali yadav 02/08/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 01/08/2018
    • अंजली यादव Anjali yadav 02/08/2018
  4. अंजली यादव Anjali yadav 02/08/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 02/08/2018
    • अंजली यादव Anjali yadav 03/08/2018

Leave a Reply