रू-ए- अनवर नहीं देखा जाता

रू-ए- अनवर[1] नहीं देखा जाता
देखें क्योंकर नहीं देखा जाता

रश्के-दुश्मन[2] भी गवारा[3] लेकिन
तुझको मुज़्तर[4] नहीं देखा जाता

दिल में क्या ख़ाक उसे देख सके
जिसको बाहर नहीं देखा जाता

तौबा के बाद भी ख़ाली-ख़ाली
कोई साग़र[5] नहीं देखा जाता

क्या शबे-वादा हुआ हूँ बेख़ुद[6]
जानिबे-दर[7] नही देखा जाता

मुख़्तसर[8] ये है अब कि ‘दाग़’ का हाल
बन्दापरवर नहीं देखा जाता

शब्दार्थ:

  1. ↑ दमकता हुआ चेहरा
  2. ↑ शत्रु की ईर्ष्या
  3. ↑ स्वीकार
  4. ↑ परेशान
  5. ↑ जाम
  6. ↑ बेसुध
  7. ↑ दरवाज़े की ओर
  8. ↑ संक्षेप में

Leave a Reply