हम ही तो नूर हैं – शिशिर मधुकर

मन तो अपने एक हैं तन ही दूर हैं
इस जहाँ में हम तो बड़े मशहूर हैं

चाहे मिल सकें नहीं रोज़ एक वार
एक दूजे के लिए हम तो गुरूर हैं

दर्द अपने गीत आज बन रहे हैं जो
प्रीत जताने के भी हमको शऊर हैं

भूले कोई कैसे कहो उनकी यादगार
चाँद से प्यारे ही जब अपने हुजूर हैं

हमको हमारी आँखों में ढूँढ़ लो मधुकर
एक दूजे की नज़र का हम ही तो नूर हैं

शिशिर मधुकर।

4 Comments

  1. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 26/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/07/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 30/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/07/2018

Leave a Reply