चले आओ – शिशिर मधुकर

चले आओ ज़रा तुम पास में तुमको मना लेंगे
अपनी बाहों में ले के तुमको सीने से लगा लेंगे

बड़ा बैरी ज़माना है नज़र से इसकी बचना है
तुम आगोश में आओ सदा को हम छुपा लेंगे

करेंगे प्यार फिर इतना तुम सो भी ना पाओगे
तेरी आँखों से इन नींदों को हम ऐसे चुरा लेंगे

उल्फ़त में तेरी जो भी अदावत मोल ली हमने
उसी के सामने अपना ये सर फिर से झुका लेंगे

बड़े ग़म ज़िंदगी में आ गए जो आज मधुकर की
तेरे चेहरे को हर पल देख के उनको भुला लेंगे

शिशिर मधुकर

4 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/07/2018
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 26/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/07/2018

Leave a Reply