दरिया से बहते हैं – शिशिर मधुकर

मुहब्बत कर तो ली हमने मगर अब दर्द सहते हैं
तन्हाई तोड़ती है पर किसी को कुछ ना कहते है

समय की धार को बदले नहीं ऐसा कोई जग में
यही तो जान कर चुपचाप हम दरिया से बहते हैं

खुद की हस्ती मिटा देते हैं जो रिश्ते निभाने में
लहू बन के जिगर का वो सदा अपनों के रहते हैं

मकां ऊँचा बना लो पर अगर ना नींव को सींचा
ज़रा सी चोट लगने पर ही वो पत्तों से ढहते हैं

अभी भी वक्त है मधुकर लो फिर से जतन कर लें
जवानी के हसीन लम्हें उमर भर थोड़ी रहते हैं

शिशिर मधुकर

8 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2018
  2. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 21/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 21/07/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 23/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/07/2018
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/07/2018

Leave a Reply