तुझे जाना है तो जा

शीर्षक- तुझे जाना है तो जा

वफ़ा के गीत ऐ-बेवफा तू मत गा
तुझे जाना है तो जा
किसने कहा था मुझे देख कर मुस्कुराने को
मेरे संग लम्हा-लम्हा बीताने को
जो प्यार के नगमें गाई हो
उन नगमो के स्वर ले जा
तुझे जाना है तो जा

बेनाम सी थी ज़िन्दगी मेरी
किसने कहा था अपना नाम मिलाने को
मेरे नाम की मेहँदी हाथो में लगाने को
तुम बताओ तो सही मेरा गुनाह क्या था
क्या इश्क मेरा बेपनाह ना था
वफ़ा के गीत ए-बेवफा तू मत गा
तुझे जाना है तो जा

जब कुछ था ही नहीं,तो क्या बचा रही हो
जरा पूछो तो सही,अपने आँखों से
ये काजल किसके लिए लगा बैठे हैं
जरा पूछो तो सही अपने हाथो से
ये चूड़ियाँ किसके लिए खनखना रहे हैं
वफ़ा के गीत ए-बेवफा तू मत गा
तुझे जाना है तो जा

जब बनाना नहीं था मकां
तो क्यों नीवं का पत्थर गाड़ दिए हो
दरख़्त तो तुम्हारे दिल में था ना
फिर क्यों दीवारों को तुड़वा रहे हो
आखिर किससे पीछा छुडवा रहे हो
वफ़ा के गीत ए बेवफा तू मत गा
तुझे जाना है तो जा—अभिषेक राजहंस

5 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 20/07/2018
    • Abhishek Rajhans 20/07/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 20/07/2018
    • Abhishek Rajhans 20/07/2018
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 20/07/2018

Leave a Reply