खुशी मिलती है मुझको- शिशिर मधुकर

तेरी सूरत ही अब तो मेरे जीवन का सहारा है
खुशी मिलती है मुझको इसे जब भी निहारा है

भले तुम दूर रह कर के प्रीत अपनी जताती हो
ये दूरी दो दिलों के बीच कब मुझको गवारा है

बड़ी मुद्दत हुईं मुझको सफ़र में ढूँढते मंजिल
लाख कोशिश करी पर नहीं मिलता किनारा है

मुहब्बत जो मिली मुझको कभी संग रह नही पाई
ना जाने कौन सा कुदरत का इसमें भी इशारा है

तन्हा इंसान मधुकर ज़िन्दगी में टूट जाता है
किसी शक्ति ने ही उसको यहाँ हरदम संवारा है

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 18/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/07/2018
  2. Ram Gopal Sankhla Ram Gop[al Sankhla 18/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/07/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 19/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/07/2018
  4. meena29 19/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/07/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 19/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/07/2018
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 19/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/07/2018

Leave a Reply