पर्दे-पर्दे में आताब अच्छे नहीं

पर्दे पर्दे में अताब[1] अच्छे नहीं
ऐसे अन्दाज़-ए-हिजाब[2] अच्छे नहीं

मयकदे में हो गए चुपचाप क्यों
आज कुछ मस्त-ए-शराब अच्छे नहीं

ऐ फ़लक! क्या है ज़माने की बिसात
दम-ब-दम के इन्क़लाब अच्छे नहीं

तू भी उसकी ज़ुल्फे-पेचाँ [3] हो गया
ऐ दिल, ऐसे पेचो-ताब [4] अच्छे नहीं

बज्म-ए-वाइज़[5] से कोई कहता गया
ऐसे जलसे बे-शराब अच्छे नहीं

तौबा कर लें हम मय-ओ-माशूक़ से
बे-मज़ा हैं ये सवाब[6] अच्छे नहीं

इक नजूमी[7] ‘दाग़’ से कहता था आज
आप के दिन ऐ जनाब अच्छे नहीं

शब्दार्थ:

  1. ↑ अत्याचार्
  2. ↑ शरमाने के ढंग
  3. ↑ उलझे हुए बाल
  4. ↑ चक्कर
  5. ↑ उपदेशकों की सभा
  6. ↑ पुण्य-कार्य
  7. ↑ ज्योतिषी

Leave a Reply