मुझे अंदाज न था – शिशिर मधुकर

मुहब्बत कैसे होती है ये मैंने तुमको सिखलाया
तुम्हें पाकर मेरा मन देख लो कितना इठलाया
मुझे अंदाज न था इस छुपी ताकत का जज्बे में
तुम जैसे पत्थर को यहाँ पर जिसने पिघलाया

शिशिर मधुकर

8 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 16/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/07/2018
  2. Abhishek Rajhans 16/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/07/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 16/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/07/2018
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/07/2018

Leave a Reply