पत्थर का टुकड़ा – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

  • पत्थर का टुकड़ा टूटा है
    जिसको तुम हीरा कहते हो।
    दिल भी टूटे इसी तरह से
    जिसको तुम पीड़ा कहते हो।

पत्थर तो पत्थर है साथी
तुम पत्थर दिल ये मत करना।
प्रेम सदा बरसाते रहना
जहर इस जिगर को मत करना।

भूल रहा जो अपने पथ को
उसको तुम राह दिखा देना।
अपने कर्तव्य भूल रहे जो
मानव का मंत्र सिखा देना।

जो भी करना सच्चे मन से
मंजिल तेरे मिल जायेंगे।
मेहनत और भरोसा करके
जीवन के फूल खिल जायेंगे।

महल अटारी रुपये पैसे
धरती पर ही रह जायेगे।
सत्य अहिंसा प्रेम व पूजा
इतिहास तेरे कह जायेगे।

 

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018
    • bhupendradave 11/07/2018

Leave a Reply