पीर पर्वत सी – शिशिर मधुकर

मुझे एहसास है तुम अब भी मेरी राह तकते हो
लाख दुश्वारियां आएं मगर फिर भी ना थकते हो
मुझे मालूम है वो पीर पर्वत सी तन्हा दिल की
बड़ी शिद्दत से तुम जिसको मुस्कानों से ढकते हो

शिशिर मधुकर

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/07/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/07/2018

Leave a Reply