देशप्रेम

जान से प्यारा देश हमारा, ये हमको दिखलाना है,
विश्व के मस्तक पर हमको,भारत का मुकुट सजाना है।
आजादी की खातिर वीरों ने स्वप्राणों का बलिदान दिया,
वीरों की शहादत का हमको,जग में सम्मान बढ़ाना है।
घात लगाए पड़ोसी देश,हरपल आतंकी चालें चल रहा,
उसके नापाक इरादों को,हमें फिर से धूल चटाना है।
छोड़ो दंगे धर्म के नाम पर,हर धर्म का सम्मान करो,
पहला धर्म देशभक्ति है हमारा,ये सबको समझाना है।
भारत एक विशाल देश है,अखंडता में है इसकी एकता,
जाति धर्म का छोड़ भेदभाव, आपस में हाथ मिलाना है।
आन,बान और शान देश की प्राणों से भी प्यारी हो,
धधक उठे देशप्रेम का जज्बा,ऐसा शंखनाद बजाना है।
नवस्फूर्ति,नवचेतना,नई आस लिए हो नया सवेरा,
गूंज उठे वन्दे मातरम से भारत,यही गीत दोहराना है।
By:Dr Swati Gupta

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/07/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 13/07/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 13/07/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/07/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 13/07/2018

Leave a Reply