भेजा क्यूँ परदेस…सी.एम्.शर्मा (बब्बू)….

कृष्णा….
भेजा क्यूँ परदेस….
मोहे…
क्यूँ भेजा परदेस…
कृष्णा…..

पांच तत्व देह डोली बिठा कर….
खूं की महंदी में मुझ को रचा कर….
धर दिया कैसा भेस…..
कृष्णा….
क्यूँ धर दिया ऐसा भेस…..
कृष्णा….
भेजा क्यूँ परदेस…..

जग ससुराल मोहे न भाये…
मोह माया के काले साये…
पल पल दें हैं मुझे ठेस….
कृष्णा….
पल पल दें हैं मुझे ठेस…..
कृष्णा
भेजा क्यूँ परदेस….

जिब्हा मेरी पे स्वाद बैठाये…
आँखों में हर रंग बिखराये…
मन को दें सब कलेश…..
तुझ बिन…
मन को दें सब कलेश…..
कृष्णा…
भेजा क्यूँ परदेस…

लोभ मोह मुझे नाच नचाये…
तेरा नाम मुझे दिया भुलाये….
कैसे दू अब सन्देश…
तोहे मैं…
कैसे दू अब सन्देश…
कृष्णा…
भेजा क्यूँ परदेस…..

कोई नहीं है मेरा अपना….
सब का ही बस स्वार्थ अपना….
लूट गयी आके परदेस….
मैं…
लूट गयी आके परदेस….
कृष्णा…
भेजा क्यूँ परदेस…..

बाट निहारूं हर पल तिहारी…
हाथ जोर करूँ बिनती बिहारी…
ओ गिरधारी कृष्ण मुरारी….
लिवा लीजो अपने देस……
कृष्णा…..
भाये न परदेस……
कृष्णा…
मुझे भाये न परदेदेदेदेदेदेदेस…
कृष्णाआआआआआआ….
लिवा लीजो अपने देदेदेदेदेदेस …..
कृष्णाआआआआआआ…….
मुझे भाये न परदेस……
कृष्णाआआआआआआ…….
\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

7 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 11/07/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/07/2018
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/07/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 12/07/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 13/07/2018
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 13/07/2018

Leave a Reply