बुझती नहीँ है आग – शिशिर मधुकर

बुझती नहीँ है आग जो सीने में जल रही
साथी तेरी कमी मुझे हर पल है खल रही

बर्फ की किश्ती मेरे जीवन की आज देख
सागर में तैरती हुईं बस तन्हा ही गल रही

वैसे तो मेरे हर तरफ़ दुश्मन का जोर है
आशा मगर मन में मेरे फिर भी है पल रही

तपते मरू में जैसे किसी पेड़ की छवि
ज़िंदगी मुझको भी कुछ ऐसे ही छल रही

कैसे ना बेबसी का अब इजहार मैं करूँ
दिन गुज़र चुका है और संध्या भी ढल रही

शिशिर मधुकर

11 Comments

  1. अंजली यादव Anjali yadav 08/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/07/2018
  2. अंजली यादव Anjali yadav 08/07/2018
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 09/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/07/2018
  4. Abhishek Rajhans 09/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/07/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 09/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/07/2018
  6. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 09/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/07/2018

Leave a Reply