बेटे का जन्मदिन

तू है मेरा नन्हा फरिश्ता, तू है मेरा नौनिहाल,
तुझसे रौशन दुनिया मेरी,तू है मेरा प्यारा लाल।
777 का अनुपम मेल,काल सप्तमी मास आषाढ़,
तेरे नन्हे से कदमों ने,घोला खुशियों का रंग गुलाल।
फूल खिला घर आँगन में,पूरा हुआ हमारा परिवार,
महक उठा उपवन प्यार से,कृपा बनाई दीनदयाल।
लाड़ मिले पापा का हरदम,बहन बरसाये तुझ पर प्यार,
बिसर गए दुख सारे मेरे,जीवन में नहीं कोई मलाल।
साकार करो उत्कर्ष नाम को,सफलता कदम चूमे हरबार,
विश्वास करो सदा ईश्वर पर,नहीं आए फिर कोई जंजाल।
स्वास्थ्य रहे उत्तम, दीर्घायु में हो खुशियों का मंगलाचार,
भगवान की रहमत रहे हमेशा,बने तेरा जीवन खुशहाल।।
By:Dr Swati Gupta

5 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 07/07/2018
    • C.M. Sharma C.M. Sharma 07/07/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 11/07/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 11/07/2018

Leave a Reply