मेरे जीवन साथी – डी के निवातिया

परिणय बंधन कि वर्षगाँठ पर अर्धांगिनी को समर्पित मेरे ह्रदय के भाव

***

मेरे जीवन साथी, मेरे मनमीत हो तुम
मेरे जीवन पथ का, मधुर संगीत हो तुम
तुम से बना मेरा, घर-संसार सलोना
तुम से महके घर-आँगन कोना-कोना
महकती फुलवारी से सज़ा अर्चना-गीत हो तुम
मेरा वर्तमान, मेरा भविष्य, और अतीत हो तुम
संग ऐसे ही तुम रहना, सुख-दुःख जो भी पड़े सहना
तुम बिन मै अधूरा, जैसे बिन कलम है कागज़ सूना
कैसे लिख पाऊँगा तुम बिन, जीवन का यह मधुर गीत
शब्द ,लय, सुर-ताल से भरा मेरा साहित्य गीत हो तुम !!
मेरा साहित्य गीत हो तुम, मेरा साहित्य गीत हो तुम !!
मेरे जीवन साथी, मेरे मनमीत हो तुम
मेरे जीवन पथ का, मधुर संगीत हो तुम !!

!

डी के निवातिया

16 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 03/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 03/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  6. C.M. Sharma C.M. Sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  7. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 04/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 04/07/2018
  8. Onika Setia Onika Setia 14/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/07/2018

Leave a Reply