बचपन की यादें

दिल मेरा बार बार मचलता है,
बच्चा बनने की ज़िद करता है।
याद आता है जब भी बचपन,
मीठी यादोँ में दिन गुज़रता है।
वो मंजर भी था कितना प्यारा,
आज भी उसमें सुकूँ मिलता है।
कितना भी अंधेरा हो जीवन में,
बचपन जुगनू की तरह चमकता है।
चाँद छूने की तम्मना थी बचपन में,
चाँद में बचपन अपना दिखता है।
याद आते हैं बीते पल जब भी,
मन मेरा गुलाब सा खिलता है।।
By:Dr Swati Gupta

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/06/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/07/2018
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 30/06/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/07/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 30/06/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/07/2018
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/06/2018
    • Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/07/2018

Leave a Reply