दयार – ए- दिल- बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

दयार ए दिल में महफूज़ रखा है
तुमने क्यों हमसे उसे दूर रखा है।

आँखों के बहाने तो कुछ और हैं
न जाने हमसे क्यों गुरूर रखा है।

आँखें मिली है दिल भी मिलने दो
आप इसको क्यों मजबूर रखा है।

उम्र तो अब आई प्यार करने की
अपने सपने का वजूद रखा है।

प्यार का इजहार मैंने किया है
खिदमत में आपकी दस्तूर रखा है।

मुझे मालूम शर्म आती है तुझको
इसलिए ख्याल ए भरपूर रखा है।

तिश्नगी ए इश्क में दोनों बह गये
खुदा के तरफ से मकबूल रखा है।

दयार – इलाका – स्थान, महफूज़ – गुप्त, दस्तूर – नियम, मकबूल – स्वीकृत।

One Response

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/06/2018

Leave a Reply