आँखें जताती हैं – शिशिर मधुकर

मुहब्बत दिल में होती है मगर आँखें जताती हैं
खुशबू प्यार की मुझको तेरी बातों से आती है

सभी कुछ पास है मेरे मगर फिर भी अधूरा हूँ
जिसे जाना कभी आवाज़ वो मुझको बुलाती है

भले वो दूर रहती हो मगर नज़दीक है इतने
कोई भी बात मन की मुझसे वो ना छुपाती है

मुहब्बत में सनम को जिसने भी अपना खुदा माना
किसी के सामने वो उसके सर को ना झुकाती है

बड़ी तकदीर से मिलता है मधुकर साथ ऐसों का
जिनकी आदत कभी इंसान का दिल ना दुखाती है

शिशिर मधुकर

10 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/06/2018
  2. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 25/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/06/2018
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/06/2018
  4. dhirendra singh 10/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 11/07/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/07/2018

Leave a Reply