तुम न समझे – डी के निवातिया

 

तुम न समझे

***

बहुत बुझाई पहेलियाँ, मगर कोई सवाल तुम न समझे !
समझ गई दुनिया सारी कितने हुए बवाल तुम न समझे !!

टूट गए हम टूटकर बिखर गए,कतरा कतरा बेजान हुए !
हम समझे हाल तुम्हारा,पर हमारा हाल तुम न समझे !!

दिन का चैन, रातो की नींद गई, दिल गया संग जान गई,
हारकर सब कुछ अपना, हम हुए निढाल तुम न समझे !!

प्रेम के बादल रूखे है, प्यासे नयनो के समंदर सूखे है
मंदी के इस दौर में हम हुए तंगहाल तुम न समझे !!

बेचैन दिल ना साज़ हुआ, तन्हाई में बुरा हाल हुआ
प्रेम नगर में सुख -चैन का, पड़ा अकाल तुम न समझे !!

सितारों की दुनिया सज़ा के, हम राह -ऐ-वफ़ा से निकले
दिल में बज़ी थी शहनाई उसकी सुर-ताल तुम न समझे !!

तेरे वालिद से भाईजान तक सब जान के दुश्मन हुए
हमारे सर पड़ा भारी, झंझटो का जाल तुम न समझे !!

जितना भी मुनासिब था हमने इश्क में सब कुछ सहा हुजूर,
अच्छे खासे अफसर से, हम तो भये कोतवाल तुम न समझे !!

जब खुद पे बीती तो हकीकत का कुछ अंदाज़ा यूँ हुआ
बुरे फंसे “धरम “मेरे यार, फिर भी मज़ाल तुम ना समझे !!

___

डी के निवातिया

***

16 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar Prasad sharma 23/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  4. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  5. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 25/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  6. Banwari Lal 25/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  7. Rajeev Gupta Rajeev Gupta 27/06/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 10/07/2018
  8. Onika Setia Onika Setia 14/07/2018
    • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/07/2018

Leave a Reply