कविता

वृक्ष का सोना और जागना
फूलों पर गिरी शबनम
निशब्द की शोर
प्रतिरोध का जन्म
धन की बालियां
खिली फूल
बच्चे की हँसी
युवा ह्रदय की प्यार
गरीबों की कठोर भुजा
“हूल”की आग
शांति का पताका
मनुष्यों की तारों-नक्षत्रों तक
पहुंचना है कविता

कविता
इतिहास
भविष्यत्
वर्त्तमान का निर्माण करती है
और
सभी को
साथ लेकर आगे बढ़ती है

4 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 23/06/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 23/06/2018
  3. C.M. Sharma C.M. Sharma 25/06/2018
  4. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 25/06/2018

Leave a Reply