गज़ल – ए – चाँद – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

गुरु जी, मैं आपका अब मुरीद बन बैठा हूँ
चाँद दिखा है , इसलिए मुफ़ीद बन बैठा हूँ।

आप तो रहनुमा हैं, मेरे इन ख्यालों के
चरणों में आपके एक, उम्मीद बन बैठा हूँ।

आप से सीखे हर लफ्ज़, हौसला जाहिर है
यह तहरीर पढ़कर मैं , शदीद बन बैठा हूँ।

उनके देरे दिल में, मुझको पनाह तो मिली
अपने भरोसे का, चश्म – ए-दीद बन बैठा हूँ।

हित सबका हो भला, ये कौन नहीं चाहेगा
सीमा पर वतन के लिए, शहीद बन बैठा हूँ।

 

मुरीद – शिष्य, फीद – उपयोगी, शदीद – प्रवल ।

2 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 14/06/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/06/2018

Leave a Reply