तन्हा ज़िन्दगी – अनु महेश्वरी

 

तन्हा हो जाती ज़िन्दगी’
अपनों से जब दूर होते,
खुद से बाते करने को,
लोग तब मजबूर होते|

दिल की बाते किस से करे
किस पे करे यहाँ एतबार,
सच्चा साथी मिलना जो,
हुआ है अब बड़ा दुश्वार|

अनु महेश्वरी

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 13/06/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 14/06/2018
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/06/2018
  4. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 15/06/2018

Leave a Reply