तहरीर – बिन्देश्वर प्रसाद शर्मा (बिन्दु)

बिना देखे ही हम उनको ऐसे सलाम कह दिये
तजुर्बा ही मेरा कुछ इस तरह था जो नाम कह दिये।
बड़ी मेहनत से पढ़ना सीखा था मैंने तहरीर
नजरों की कवायद थी जो किस्सा तमाम कह दिये।

5 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 07/06/2018
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/06/2018
  3. Bhawana Kumari Bhawana Kumari 08/06/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/06/2018
  5. C.M. Sharma C.M. Sharma 12/06/2018

Leave a Reply