मलाल- शिशिर मधुकर

मुझे इसका बहुत मलाल है
न किसी को मेरा ख़याल है
मेरी ज़िन्दगी को देख लो
बस ग़मों की ये मिसाल है

हर मन में उठता सवाल है
आखिर हुआ क्यूँ ये हाल है
समझे ना खेला दुनिया का
टेढ़ी जहाँ हर चाल है

ऊँचा रखा निज भाल है
आगे ना पर कोई ढाल है
छलनी करा मेरे सीने को
हर आंसू बना अब लाल है

गुज़रे यूँही अब साल है
कटता न पर ये जाल है
किश्ती जो भी मैंने चुनी
उसमे लगा ना पाल है

शिशिर मधुकर

10 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/06/2018
  2. C.M. Sharma C.M. Sharma 05/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/06/2018
  3. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 05/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/06/2018
  4. mukta mukta 05/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/06/2018
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 07/06/2018
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 07/06/2018

Leave a Reply to Dr Swati Gupta Cancel reply