रास्ते खामोश हैं

रास्ते ख़ामोश हैं और मंज़िलें चुपचाप हैं
ज़िन्दगी मेरी का मकसद, सच कहूं तो आप हैं

आपके आने से पहले चल रही थी ज़िन्दगी
वो भला क्या ज़िन्दगी, जिसमें न शामिल आप हैं

ज़िन्दगी भर ख्वाब में चेहरा जो हम देखा किये
वो न कोई और था, सपना भी मेरा आप हैं

मां की ममता, प्यार बीवी का सभी कुछ तुम ही हो
बेतक्कलुफ़ हो के भी, तुम तुम नहीं हो, आप हैं

आंख के आंसू में शामिल है ख़ुशी या फिर है गम
फर्क क्या पडता है, हर आंसू का कारण आप हैं

Leave a Reply