कवि नही हूँ Bhawana kumari

कवि नही हूँ
पर
कविता लिखती हूँ ।
शब्दों को
पिरोना नहीं आता
फिर भी
उसे एक धागे में
पिरोती हूँ।
शायद कुछ लिख दुं
इस ख्याल से
हर बार कुछ
लिखने
की कोशिश करती हूँ।
कवि नही हूँ
पर
कविता लिखती हूँ।
बस यूँ ही
कुछ
लिखते लिखते
शब्दों की एक
माला
बन जाती है
जब कुछ ख्याल
मन में
आता है तो
उसे कोरे कागज पर
उतार
खुद को कवि
समझ
बैठती हूँ।
कवि नही हूँ
पर
कविता लिखती हूँ।
माँ कहती है
कभी
न बैठो खाली ।
इसलिए
सादे कागज पर
कुछ
शब्दों को पिरोती हूँ।
कवि नही हूँ
पर
कविता लिखती हूँ।
मन में एक उम्मीद लेकर
कल
मै भी बन सकती हूँ
कवि।
इसलिए शब्दो की
पोटली से
कुछ शब्द चुन कर
शब्दों
की माला पिरोती हूँ।
कवि नही हूँ
पर
कविता लिखती हूँ।

17 Comments

  1. C.M. Sharma C.M. Sharma 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  3. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  5. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 26/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 27/05/2018
  7. meena29 28/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 28/05/2018
  8. rakesh kumar rakesh kumar 28/05/2018
    • Bhawana Kumari Bhawana Kumari 28/05/2018
  9. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 23/06/2018

Leave a Reply